Saturday, August 28, 2010

ब्रम्ह सत्यं जगत मिथ्या ...


एक बूंद भर उजाले की टंकार
चहुँओर हाहाकार
बंद कमरे की तपिश
चंद आकांक्षाओ से लबालब कशिश
गरीब के आँखों से बहते निर्झर झरने
नेताओ के चौराहों - नुक्कड़ो पर धरने
कोई दिखाए ना दया
ब्रम्ह सत्यं जगत मिथ्या ।


जल रहे है अंदर ही अंदर
कहाँ गए बापू के वो तीनो बन्दर
सत्य - अहिंसा कौड़ियों के भाव बिक गयी
सत्ता भी जैसे तैसे चल गयी
बेसुध घूमते अत्याचारी , बलात्कारी
पाप की लंका है निरंतर , सकुशल जारी
मन में कोई भय ना हया
ब्रम्ह सत्यं जगत मिथ्या


महामारी का दौर है
दवाइयों पर गौर है
बड़ी मेहनत से सपनो का खेत था जोता
बिना घूस के काम ही नहीं होता
कल्पनाओ को मुखाग्नि देकर
निकल पड़ते है लज्जित से भावविहीन होकर
काम की तलाश में दिल्ली , पटना या गया
ब्रम्ह सत्यं जगत मिथ्या ।

8 comments:

vedna said...

bahut bahut marmik kavita satyarth lage raho

Bahadur Chouhan said...

kalam se gadya or padya(kavita)dono ki khadan he tu

kabad khana said...

badhiya aisa lagta he ki manch par padhne ke liye likhi he .keep it up but tumko article par jyada dhyan dena chahiye .bramh satyam jagat mithya ka mukhda kahan se aya

Prashant said...

कमल का लेखन, हर पंक्ति लाजवाब ..

ravish ranjan said...

Saandar kavita hai..kafi dino se mai sarvesvar saxena ki kavita poul burgman aur hitlar ki moonch ko khoj raha hun...agar apko kanhi kavita sangrah milo to plz mere mob 09999325551 par jaror sms karan..thanx

ravish ranjan said...

Saandar kavita hai..kafi dino se mai sarvesvar saxena ki kavita poul burgman aur hitlar ki moonch ko khoj raha hun...agar apko kanhi kavita sangrah milo to plz mere mob 09999325551 par jaror sms karan..thanx

Ashok K Pandey said...

brahmn satyam jagat mithya
kavivar satyam kavita nitya..

yashaswi dwivedi said...

"ब्रम्ह सत्यं जगत मिथ्या ..." bahut khoob aur behatarin samanjasya aadhyatimk-sansarik satya ka